logo In the service of God and humanity
Stay Connected
Follow Pujya Swamiji online to find out about His latest satsangs, travels, news, messages and more.
H.H. Pujya Swami Chidanand Saraswatiji | | Pujya Swamiji on Jagadguru Adi Shankaracharya Jayanti
32230
post-template-default,single,single-post,postid-32230,single-format-video,edgt-core-1.0.1,ajax_fade,page_not_loaded,,hudson-ver-2.0, vertical_menu_with_scroll,smooth_scroll,side_menu_slide_from_right,blog_installed,wpb-js-composer js-comp-ver-5.4.5,vc_responsive

Pujya Swamiji on Jagadguru Adi Shankaracharya Jayanti

Apr 27 2020

Pujya Swamiji on Jagadguru Adi Shankaracharya Jayanti

HH Pujya Swami Chidanand Saraswatiji speaks on the message and divine example of Jagadguru Adi Shankaracharyaji and how today in the times of Covid-19 and for many in lockdown we are called now more than ever to open the locks with ourselves and dissolves the borders and barriers that create an illusive separation between us and the divine creation.

अद्वैत वेदांत के प्रतिष्ठापक भगवान जगद्गुरू शंकराचार्य का पावन चरित्र हम सब का महान संबल है। हिन्दू धर्म ने अनेकों आवश्यक और रचनात्मक सुधार किए और हिन्दू धर्म की नींव को पुष्ट किया एवं पुनर्स्थापित किया।
चारों दिशाओं में चार मठो की स्थापना करके भारत को एकता के सूत्र में बांधा।
भगवान शंकराचार्य का जीवन शुद्धि, बुद्धि और सिद्धि का संगम है। वे शुद्ध भी थे। बुद्ध भी थे। और सिद्ध भी। ज्ञान, भक्ती और कर्म की अद्भुत त्रिवेणी है उनका जीवन।

श्रेयस और प्रेयस के बीच, अध्यात्म पक्ष और व्यवहार पक्ष के बीच कैसी सामंजस्यता है। आज इस लॉकडॉउन के समय व्यक्ति जब स्वयं को लॉक महसूस कर रहा है, डाउन महसूस कर रहा है। ऐसे में भगवान शंकराचार्य का जीवन और दर्शन लॉक्स को भी खोलता है और व्यक्ति को डाउन होने से भी बचाता है।

Share Post